केलिमाल-93 बोलो श्री हरिदास ꧁ ll प्रेम सहेली ll꧂

4 Views
Published
भीजन लागे री दोऊ जन।
अँचरा की ओट करत दोऊ जन। ।
अति उनमत रहत निसि बासर, राग ही के रंग रंगे दोऊ जन।
श्री हरिदास के स्वामी स्याम प्रेम परस्पर नृत्य करत दोऊ जन। ।
Category
नृत्य
Be the first to comment